इसरो के ऑपरेशन ‘गगनयान’ के लिए IAF ने शुरू की चयन प्रक्रिया।


भारतीय वायु सेना (IAF) ने देश के पहली अंतरिक्ष मिशन ‘गगनयान’ के लिए 10 संभावित अंतरिक्ष यात्रियों को शॉर्टलिस्ट करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। यह मिशन 2022 तक पूरी की जाएगी।
बेंगलुरु स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ एयरोस्पेस मेडिसिन (IAM) संभावित उम्मीदवारों के लिए चिकित्सा प्रक्रिया शुरू करेगा।एक सूत्र ने बताया कि,संभावित अंतरिक्ष यात्री, कठिन चिकित्सा परीक्षणों से गुजरेंगे, ये परिक्षण लड़ाकू पायलट के प्रक्रिया से भी कठोर होंगे। और ‘ज्यादा फोकस’ मनोवैज्ञानिक कौशल पर दिया जाएगा।

सूत्रों ने यह भी कहा कि चयन तीन चरणों वाली प्रक्रिया से होगी। हालांकि, उन्होंने चयन प्रक्रिया और अब तक शॉर्टलिस्ट किए गए लोगों की संख्या के बारे में विस्तार से बताने से इनकार कर दिया। योजना के अनुसार, चयनित अंतरिक्ष यात्रियों को भारत में प्रारंभिक प्रशिक्षण दिया जाएगा और फिर उन्हें विदेशों में उन्नत प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। भारत अभी दूसरे चरण के प्रशिक्षण के लिए अमेरिका, रूस और फ्रांस के साथ बातचीत कर रहा है।

रक्षा प्रतिष्ठान 9,023 करोड़ रुपये के मिशन में अहम भूमिका निभा रहा है, इसमें भारतीय वायुसेना के चालक दल के चयन और प्रशिक्षण की व्यवस्था का इंतजाम है, जबकि रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) चालक दल के लिए जीवन समर्थन प्रणाली का निर्माण कर रहा है।

अंतरिक्ष एजेंसी दिसंबर 2021 या 2022 तक एक सप्ताह के लिए पृथ्वी की कक्षा के आसपास कैप्सूल में तीन अंतरिक्ष यात्रियों को भी भेजेगी, जो देश के 75 वें स्वतंत्रता वर्ष का प्रतीक होगा।

गुलशन।

Share via

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *