कोरोनिल से 7 दिन में 100% कोरोना मरीज रिकवर- पतंजलि का दावा

एक तरफ कोरोना महामारी ने अपनी तबाही मचा रखी है वहीं दुनिया के तमाम देश इसके वैक्सीन कि खोज में लगे हुए हैं। तमाम कोशिशों के बावजूद अभी तक किसी देश को सफलता नहीं मिली हैं। वहीं बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि ने कोरोना की दवा कोरोनिल को हरिद्वार में लॉन्चिंग की।

इस मौके पर बाबा रामदेव ने कहा कि दवा का हमने दो ट्रायल किया था। पहला- क्लिनिकल कंट्रोल स्टडी, दूसरा- क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल।दिल्ली से लेकर कई शहरों में हमने क्लिनिकल कंट्रोल स्टडी किया। इसके तहत हमने 280 रोगियों को सम्मिलित किया। क्लिनिकल स्टडी के रिजल्ट में 100 फीसदी मरीजों की रिकवरी हुई और एक भी मौत नहीं हुई। कोरोना के सभी चरण को हम रोक पाएं। दूसरे चरण में क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल किया गया।

उन्होंने दावा किया है कि 100 लोगों पर क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल की स्टडी की गई। 3 दिन के अंदर 69 फीसदी रोगी रिकवर हो गए, यानी पॉजिटिव से निगेटिव हो गए।यह इतिहास की सबसे बड़ी घटना है। सात दिन के अंदर 100 फीसदी रोगी रिकवर हो गए। हमारी दवाई का सौ फीसदी रिकवरी रेट है और शून्य फीसदी डेथ रेट है।

उन्होंने आगे कहा क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल को लेकर बहुत से अप्रूवल लेने होते हैं। इसके लिए एथिकल अप्रूवल लिया, फिर सीटीआईआर का अप्रूवल और रजिस्ट्रेशन कराया गया। भले ही लोग अभी हमसे इस दावे पर प्रश्न करें, हमारे पास हर सवाल का जवाब है। हमने सभी वैज्ञानिक नियमों का पालन किया है।

इस दवाई को बनाने में सिर्फ देसी सामान का इस्तेमाल किया गया है, जिसमें मुलैठी-काढ़ा समेत कई चीज़ों को डाला गया है। साथ ही गिलोय, अश्वगंधा, तुलसी, श्वासरि का भी इस्तेमाल किया गया। आयुर्वेद से बनी इस दवाई को अगले सात दिनों में पतंजलि के स्टोर पर मिलेगी।

मालूम हो कि बाबा रामदेव की पहचान दुनिया भर में योग गुरु के हुई,, उन्होंने दुनिया को योग की ताकत का एहसास दिलाया। साथ ही साथ भारत की सबसे पुरानी और पारंपरिक विधि आयुर्वेद को भी एक अलग पहचान दिलाई और पतंजलि नाम से अपनी एक कंपनी बनाई जो कि लोगों को आयुर्वेद से बनी चीजें बेचती है।

रितेश।

Share via

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *