बीसीसीआई द्वारा दूसरी दफ़ा विदेशी दौरा रद्द करने पर जिम्बाब्वे के कोच ने क्या कहा

देश विदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए खेल जगत में सुस्ती आ गई। खिलाड़ियों के स्वास्थ्य और दर्शकों के हित को ध्यान में रखते हुए खेलों का आयोजन रद्द कर दिया जा रहा है। अगर समय की मांग के लिहाज़ से चला जाए तो यह सही निर्णय भी है। क्योंकि पूरी दुनिया इस वक़्त कोरोना वायरस के संक्रमण से जूझ रही है। ऐसे में जोख़िम लेना कहीं से भी बुद्धिमानी की बात नहीं है। इसी को ध्यान में रखते हुए बीसीसीआई ने भी बहुत सही निर्णय लिया है।
बीसीसीसीआई ने पिछले दो दिन में भारतीय टीम के दो विदेशी दौरे को रद्द करने से पीछे नहीं हटी है।

दरअसल गुरुवार को बीसीसीआई द्वारा टीम इंडिया के श्रीलंका और शुक्रवार को जिम्बाब्वे दौरे को रद करने का फैसला लिया गया। ग़ौरतलब है जिम्बाब्वे का दौरा रद्द होने पर टीम इंडिया के मैनेजर रह चुके लालचंद राजपूत जो कि जिम्बाब्वे क्रिकेट टीम के हालिया कोच हैं, उन्हें इस दौरे के रद्द होने निराशा हुई है। उन्होंने अपने प्रतिक्रिया में फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि भारतीय टीम का मुकाबला करने के लिए उनकी टीम तैयार थी।

विराट कोहली की टीम के साथ उनके खिलाड़ियों को खेलकर काफी कुछ सीखने को मिलता और वो कड़ी टक्कर देते। बता दें कि टाइम्स ऑफ इंडिया से राजपूत ने टीम की तैयारियों पर बात करते हुए कहा कि उनकी युवा टीम के लिए यह भारतीय दौरा बड़ा मौका गंवाने जैसा है।

कोच लालचन्द राजपूत ने कहा कि “यह बहुत ही दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण है कि यह दौरा रद हो गया। इंटरनेशनल क्रिकेट में कोई भी टीम भारत के साथ खेलना पसंद करती है। मेरी टीम के खिलाड़ी भी विराट कोहली, रोहित शर्मा, जसप्रीत बुमराह और कुलदीप यादव जैसे खिलाड़ियों के खिलाफ खेलने की चुनौती को पसंद करते। उम्मीद करता हूं कि तीसरी बार में हम भाग्यशाली होंगे।”

मालूम हो कि पिछले 6 महीने में यह दूसरी दफ़ा है जब भारत और जिम्बाब्वे सीरीज को रद किया गया है। बता दें कि इससे पहले जनवरी में भारतीय टीम को 3 मैचों की टी20 सीरीज के लिए जिम्बाब्वे जाना था। लेकिन आईसीसी द्वारा जिम्बाब्वे की टीम पर लगाए प्रतिबंध के कारण इस दौरे को रद्द कर दिया गया। हालांकि इस बार प्रतिबंध जैसी कोई बात नहीं थी। बीसीसीआई को इस दौरे के साथ साथ श्रीलंका का दौरा भी कोरोना वायरस के भय से रद्द कर करना पड़ा।

नरेंद्र

Share via

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *