इन केंद्रीय कर्मचारियों को सरकार का तोहफा, 1 जनवरी से मिलने जा रहा ये बड़ा लाभ

केंद्र सरकार (Central Government) ने नए साल से ठीक पहले करीब 6.3 लाख पेंशनधारकों (Pensioners) को एक खास तोहफा दिया है। श्रम मंत्रालय ने कहा है कि कर्मचारी ​भविष्य निधि संगठन (EPFO) के कर्मचारी पेंशन योजना के तहत पेंशन कोष से एक मुश्त आंशिक निकासी यानी ‘कम्युटेशन’ की सुविधा 1 जनवरी से प्राप्त कर सकेंगे।

EPFO ने 2009 के प्रावधान को वापस लिया

इन 6.3 लाख पेंशनभोगियों (Pensioners) ने अपनी पेंशन निकासी का विकल्प चुना था और 2009 से पहले सेवानिवृत्ति (Retirement) के समय उन्हें पेंशन मद में जमा राशि में से कुछ हिस्सा एक मुश्त निकालने की अनुमति मिल गयी थी। EPFO ने 2009 में पेंशन मद में से निकासी के प्रावधान को वापस ले लिया था।

इन 6.3 लाख पेंशनभोगियों (Pensioners) ने अपनी पेंशन निकासी का विकल्प चुना था और 2009 से पहले सेवानिवृत्ति (Retirement) के समय उन्हें पेंशन मद में जमा राशि में से कुछ हिस्सा एक मुश्त निकालने की अनुमति मिल गयी थी।EPFO ने 2009 में पेंशन मद में से निकासी के प्रावधान को वापस ले लिया था।

सूत्र ने कहा, “श्रम मंत्रालय कर्मचारी पेंशन योजना (EPS) के तहत पेंशन ‘कम्युटेशन’ सुविधा लागू करने के ईपीएफओ के निर्णय के क्रियान्वयन को लेकर एक जनवरी 2020 को अधिसूचना जारी करेगा।”

क्या है अग्रिम पेंशन की सुविधा

इस सुविधा के तहत पेंशनधारक को अग्रिम में पेंशन का एक हिस्सा एकमुश्त दे दिया जाता है। उसके बाद अगले 15 साल के लिये उसकी मासिक पेंशन में एक तिहाई की कटौती की जाती है। 15 साल बाद पेंशनभोगी पूरी पेंशन लेने के लिये पात्र होते हैं।

6.3 लाख पेंशनभोगियों के ​लिए प्रस्ताव को मंजूरी

ईपीएफओ का निर्णय लेने वाला शीर्ष निकाय केंद्रीय न्यासी बोर्ड ने 21 अगस्त 2019 को हुई बैठक में इस सुविधा का लाभ लेने वाले 6.3 लाख पेंशनभोगियों को ‘कम्युटेशन’ प्रावधान बहाल करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी थी। केंद्रीय न्यासी बोर्ड के अध्यक्ष श्रम मंत्री हैं।

EPFO की एक समिति ने आंशिक निकासी के 15 साल बाद पेंशन राशि बहाल करने को लेकर EPFC-95 में संशोधन की सिफारिश की थी। पेंशन ‘कम्युटेशन’ को बहाल करने की मांग थी। इससे पहले, EPS-95 सदस्यों को 10 साल के लिये पेंशन मद में से एक तिहाई राशि निकालने की अनुमति थी। इसे 15 साल बाद बहाल किया गया है। यह सुविधा सरकारी कर्मचारियों के लिये पहले से चली आ रही है।

रितेश

Share via

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *